Friday, August 23, 2019

removing negative energy through camphor (Kapur)

Easiest and cheapest method of removing negative energy through camphor (Kapur)

Method of casting off the evil-eye using camphor
A piece of camphor is held in the right hand and moved around the individual afflicted with the evil-eye three times in a clockwise direction from the feet to the head and then moved down again. Then, the camphor is burnt on the floor.
When compared with other elements used for casting off the evil-eye, fragrance of camphor has greater capacity to absorb the distressing vibrations, congregate them in the camphor and then destroy them with the help of fire. Hence, it is not necessary to make any specific mudras to attract negative energies, such as the cross-handed mudra required for casting off the evil-eye with mustard seeds and salt.
After moving the camphor around the person, it is not thrown into the fire (smouldering coal) but is kept on the ground and burnt.
Special characteristics of evil-eye
according to the proportion of being afflicted by evil-eye

Not afflicted by evil-eye : On burning the camphor, when the flame is steady and there is no smoke, it means that the individual is not afflicted by evil-eye.
Mild effect of the evil-eye: On burning the camphor, when the flame flutters a little and is there is no smoke, it means that the individual is mildly afflicted by evil-eye.
Medium effect of the evil-eye: On burning the camphor, when the flame flutters moderately and gives out little smoke, it means that the individual is moderately afflicted by evil-eye.
Severe effect of the evil-eye: On burning the camphor, when the flame gives out a lot of smoke, it means that the individual is severely afflicted by evil-eye.
Death indicating effect of the evil-eye: On burning the camphor, when the flame makes sound and extinguishes immediately, it means the individual is afflicted by evil-eye that is extremely harmful. When the waves that lead to death are active, the camphor extinguishes with a crackling noise.

Ref b modi

Tuesday, August 20, 2019

SWITCHWORDS MAGIC

Switchword is the essence of an experience, condition, or desired result, expressed as a single word. Switchword is "one-word creative declaration," a "one-word affirmation."

Declare, affirm, chant, sing, or even just mentally "intend" the Switchword, and like turning on an electric lamp with a switch, the desired result reliably appears.

TOGETHER is the Master Switchword for a life of heaven on Earth and mastery of any task at hand, 14 Categories: Freedom, Love, Survival, Security, Health, Money, Art, Wisdom, Pleasure, Happiness, the life of action, Self-improvement, Service to humanity, God religion spirituality and enlightenment, James T. Mangan realized TOGETHER was the one-word formula on 10-March-1951 that would manifest all of them in perfect proportion.



1. ACT be a good orator; transition
2. ADD find or increase percentage; enlarge what you have
3. ADJUST create balance; assume or carry a burden; handle uncomfortable or unpleasant conditions

4. ALONE nurture or heal; increase focus on self
5. AROUND gain or improve perspective
6. ATTENTION do detailed work; avoid carelessness
7. BE be at peace and maintain wellness; have good form; dispel loneliness; skill in sports; to be unaffected by ridicule and negative or contrary energy

8. BETWEEN use or enhance telepathy; increase psychic awareness
9. BLUFF dispel fear or nervousness; enhance imagination and dreams
10. BOW dispel arrogance
11. BRING unite with; manifest; make it so; deliver the goods
12. BUBBLE expand beyond perceived limitations; get energized; get excited

13.CANCEL eliminate negativity or unwanted conditions; eliminate, erase or dis-create debt or any kind of negativity, or any unwanted thought or condition; dispel annoyance; to dispel worry; eliminate poverty

14. CANCER calm emotional distress; soften (from astrology’s Cancer the Crab)
15. CARE memorize; remember; retain
16. CHANGE dispel emotional or physical pain; get something out of the eye
17. CHARLTON HESTON stand straight and tall (or use someone you know who stands straight and tall)

18. CHARM manifest your heart’s desires
19. CHLORINE mingle; share yourself; make a difference; blend; become one with
20. CHUCKLE turn on personality
21. CIRCULATE end loneliness; mingle
22. CLASSIC appear cultured, suave

23. CLEAR dispel anger and resentment
24. CLIMB rise; enhance your view point
25. CONCEDE stop arguing, "kiss & make up"
26. CONFESS end aggression

27. CONSIDER be a good mechanic, a fixer of things
28. CONTINUE create or increase endurance; continue swimming
29. COPY have good taste; increase fertility
30. COUNT make money; reduce smoking

31. COVER reduce nervousness; subdue inner excitement
32. CRISP dispel fatigue; feel refreshed; revitalize; enhance; rejuvenate; brighten
33. CROWD dispel disobedience in children, pets or subordinates
34. CRYSTAL clarify the situation, things; look to the future; improve clairvoyance; purify; neutralize; access Universal Knowledge

35. CURVE create beauty; make something beautiful
36. CUT for moderation if tempted to excess; sever ties
37. CUTE think; discern; be sharp-witted; be clever
38. DEDICATE stop clinging

39. DIVINE work miracles or extraordinary accomplishment; increase personal ability
40. DIVINE LIGHT multiply intensity; increase enlightenment; brightly focus positivity
41. DivineORDER anytime you have some organizing or cleaning to do, or packing for a trip, be efficient; clean up a mess; put in optimum order; revamp

42. DO eliminate procrastination
43. DONE create completion; meet a deadline; keep a resolution; build willpower
44. DOWN stop bragging
45. DUCK dispel hypersensitivity
46. ELATE transform a setback into an uplift or benefit

47. FIFTY THREE (53) pay primary concern; take responsibility
48. FIGHT win a competitive game; intensify intents
49. FIND build a fortune
50. FOR promote
51. FOREVER keep a secret

52. FORGIVE eliminate remorse; end desire for revenge
53. FULL optimum level; go beyond; expand capacity
54. GIGGLE get in the mood for writing; enjoy the task at hand
55. GIVE sell; help others
56. GO end laziness; begin; progress

57. GUARD protection of body, spirit or property; preserve personal safety
58. HALFWAY make a long distance seem short
59. HELP eliminate indecision or uncertainty; increase focus
60. HO relax; to reduce tension; to yawn; to sigh
61. HOLD build character

62. HOLE be attractive, appealing
63. HORSE be solid; be strong; gain power
64. HORSESHOE remain steadfast; strengthen the soul; safely move rapidly ahead; increase sturdiness and balance

65. JACK LALANNE enthuse (or use someone you know who is an enthusiast)
66. JUDGE – love to read; increase comprehension 
67. LEARN be youthful; look youthful; rejuvenate
68. LIGHT be inspired; lighten load, mood or stress
69. LIMIT set parameters; keep others from taking advantage of you; back off; stop; regain control

70. LISTEN predict the future; in touch with nature and self
71. LOVE generate, radiate, experience love; acceptance
72. MAGNANIMITY be generous; end pettiness
73. MASK save from harm; shield
74. MONA LISA smile; dispel hate; dispel envy (or someone who represents a smile to you)

75. MOVE increase energy; eliminate tiredness; increase pep; clear inertia
76. NEXT finish lots of meticulous work; repeat; at this time
77. NOW end procrastination; act on good impulse
78. OFF quit an unwanted habit; go to sleep

79. OFFER dispel greed
80. OIL clear friction; smooth; release tension; release resistance; separate
81. ON get new ideas; obtain transportation; nourish ambition; build; produce
82.OPEN release; tolerate; understand; comprehend; free the mind; breathe easier; be artful; dispel inhibitions; allow

83. OVER end frustration
84. PERSONAL publish a successful newspaper or newsletter; be a success
85. PHASE set goals, routine or pattern; improve situation
86. POINT improve eyesight and focus; find direction; decide
87. POSTPONE stop pouting; let it go

88. PRAISE be beautiful; stop being critical; stop fault finding; make yourself handsome
89. PUT build; expand
90. QUIET quiet the ego
91. REACH locate misplaced objects; reach solutions for problems; repair things; find what you’re looking for such as misplaced items like keys, papers, tools, etc., forgotten ideas, information in your mind or memory like names, numbers, etc., solutions to problems; invent; solve problems; remember, recall; retrieve

92. REJOICE – stop being jealous (U)
93. RESCIND – undo; restart; cancel; redo; (similar to Control-Z on a Windows computer you undo – last action) Caution: It may be wise to use BETWEEN, CRYSTAL and LISTEN with RESCIND to avoid possible time loop

94. RESTORE restore fairness; restore honesty
95. REVERSE bury a grudge; stop
96. RIDICULOUS get publicity; center attention on you
97. ROOT dig; discover; grow
98. SAGE dispel evil; dispel negative and contrary energies

99. SAVE stop drinking alcohol and other unwanted habits
100. SCHEME advertise; design; create
101. SHOW be devout; virtuous; moral; give respect
102. SHUT stop looking for trouble
103. SLOW be wise; have patience

104. SOPHISTICATE publish a successful magazine; become a larger success
105. SPEND dress better; be beautiful
106. STRETCH prolong a good feeling or event or sense of well-being; grow intellectually, mentally, spiritually or physically

107. SUFFER handle success; handle prosperity
108. SWEET be soothing to others; be caring
109. SWING have courage; be bold
110. SWIVEL relieve constipation; relieve diarrhea

111. TAKE become a good leader
112. TAP convert; adapt; renovate
113. THANKS stop regretting; release guilt
114. TINY be polite; be kind; be courteous; reduce size; decrease importance
115. TOGETHER master any activity; have it all together; become single-minded

116. TOMORROW eliminate remorse; dispel sorrow
117. UNCLE dispel untogetherness; ward off apartness
118. UNMASK bring into focus; expose; lay bare
119. UP be in high spirits; dispel the blues; dispel inferiority complex
120. WAIT learn a secret

121. WASTE appear rich; show opulence
122. WATCH learn a skill; perfect a skill
123. WHET stimulate; sharpen; hone; refine; finalize
124. WITH be agreeable; compatible; harmonize well with others; immerse in
125. WOMB feel cuddled; be cuddly; be secure; reconnect with Source

The above is a blending of information from:

Kat Miller & Associates http://blueiris.org & http://www.blueiris.biz
James T. Mangan The Secret of Perfect Living
Shunyam Nirav Switchwords – Easily Give to You Whatever You Want in Life

Thursday, July 18, 2019

क्या कहते हैं हमारे शरीर के तिल?

क्या कहते हैं हमारे शरीर के तिल?
******************************
शरीर पर पाए जाने वाले तिलों के ज्योतिषीय फल जानने की हर व्यक्ति में जिज्ञासा रहती है। आज हम तिलों के महत्व व फल पर चर्चा करेंगे।

महिलाओं के शरीर पर तिल
===================..
- महिला के बाईं तरफ मस्तक पर तिल हो तो वह किसी राजा की रानी बनती है। वर्तमान में तो कोई राजा रानी नहीं हैं उसे हम अमीरी से जोडक़र देख सकते हैं। यूं कहा जा सकता है कि जिस महिला के बाईं तरफ मस्तक पर तिल होता है वह धन-दौलत उसके चारों तरफ बिखरी रहती है। उसे हर वो सुख मिलता है जिसकी उसे आशा नहीं होती है। उसका पति उसे अपनी हथेलियों पर रखता है।

- गाल पर बांई तरफ तिल हो तो ऐशो-आराम का सुख मिलता है। उसे धैर्यवान और स्वयं को प्यार करने वाला जीवनसाथी मिलता है। 

- कहा जाता है कि जिस महिला के छाती पर तिल होता है उसे पुत्र की प्राप्ति होती है। हालांकि विज्ञान इसे नहीं मानता है। स्त्री के दोनों स्तनों पर तिल उसे कामुक बनाता है। उसे प्रेमी या पति से विशेष प्यार मिलता है। बाईं जांघ पर तिल हो तो नौकर-चाकर का सुख मिलता है। दायीं जांघ पर तिल उसे पति की प्राणप्रिया बनाता है। पांव पर तिल हो तो विदेश यात्रा का योग रहता है। कान पर तिल हो तो आभूषण पहनने का सुख मिलता है। मस्तक पर तिल हो तो हर जगह इज्जत मिलती है।

- महिलाओं के शरीर के तीन ऐसे अंग हैं जिन पर तिल होना उनके लिए हानिकारक माना जाता है। जिस महिला के नाक पर तिल होता वह सौंदर्य की अनुपम मूर्ति नजर आती है लेकिन उसमें चूर-चूर कर घमंड और अहम् भरा होता है। जिसके चलते हर शख्स के साथ उनकी अनबन रहती है। इनके उन्हीं लोगों के साथ विचार मिलते हैं जो उनकी जी-हुजूरी करते हैं।

- जिन महिलाओं के कमर और हिप्स के जोड़ पर तिल होता है, वह महिलाएँ ताउम्र अवसाद का शिकार रहती हैं। उनके दिमाग में हर घड़ी अपना अतीत घूमता रहता है, जिसके चलते वे न तो पीहर में और न ही ससुराल में सुख भोग पाती हैं।

- जिन महिलाओं के गुप्तांगों के ऊपर तिल होता है वह हमेशा शारीरिक सुख को लालायित रहती हैं। ऐसी महिलाएं एक से अधिक पुरुषों से यौन संबंध बनाती हैं। जिन महिलाओं के इस स्थान पर तिल पाया जाता है वह कभी भी एक पुरुष से सन्तुष्ट नहीं हो पाती हैं।

पुरुष के शरीर पर तिल... 
=================..
- जिस पुरुष के आंख पर तिल होता है तो वह नायक अर्थात् वह नेतृत्वकर्ता होता है। 

- गाल पर तिल हो तो उसे स्त्री का सुख मिलता है। सिर (मस्तक) पर तिल होता है, वह हर जगह इज्जत पाता है। 

- मुख पर तिल होता है तो उसे बहुत दौलत मिलती है। 

- नीचे के होंठ पर तिल हो तो वह व्यक्ति कंजूस होता है। 

- ऊपर के होंठ पर तिल हो तो धन पाता है तथा चारों तरफ इज्जत मिलती है। 

- कान पर तिल हो तो वह खूब पैसे वाला होता है। 

- गर्दन पर तिल हो तो उस व्यक्ति की लंबी उम्र होती है तथा उसे आराम मिलता है।

- दाहिने कंधे पर तिल हो तो वह व्यक्ति कलाकार होता है। क्षेत्र कोई-सा भी हो सकता। 

- छाती के दाहिनी तरफ तिल हो तो अच्छी स्त्री मिलती है। 

- हाथ के पंजे पर तिल हो तो वह व्यक्ति दिलदार व दयालु रहता है। 

- पांव पर तिल हो तो उस व्यक्ति के विदेश यात्रा का योग बनता है।

- जिस पुरुष के गुप्तांग पर तिल हो वह एक से अधिक स्त्रियों से यौन संबंध बनाता है। ऐसे पुरुष अय्याश प्रवृत्ति के भी होते हैं।

राजेन्द्र गुप्ता

Tuesday, July 09, 2019

Who is a Soul Mate? By Rrachita Gupta Ravera

GENERALLY when a regular person who does not deal too much with spiritual terms hears the word SOUL MATE he gets a very definite flash of a romantic partner.

As part of our common language we refer to our love parteners as soul mates. But actually this is not true.
Much against popular belief, a soul mate is not necessarily your life partener or your love companion. Infact a soul mate cannot be restricted to just a romantic connotation. 

We must understand that soul mate is literally someone who is a partener of your soul purpose for either:
1. A specific karma to be performed
2. A specific time period has to be spent together as decided by fate so that common life experiences can be shared together as per a karmic contract drawn up even before our birth with that person.
Sure , soulmate means someone who your  soul will feel a strange connection, maybe even a yearning to connect with. Out of thousands the radar of your soul will turn towards that person and you will want to be with them.

But that can happen between a father and daughter or an aunt and her niece or even two unlikely persons who later become the best of buddies. You can have a lovely platonic warm hearted and emotionally fulfilling relationship with your soul mate.

Understand that any relation or bond you feel very strongly about in this lifetime is  your soul mate.  They can be your parents, or your children ,or your spouse , or your office colleague,  or even your neighbour.

Infact soul mates can even be animals or birds you feel a strong connection with. They are also souls albeit in a different physical form. But remember its the soul energies contacting and connecting with each other and not the bodily form only.

When we are born into this physical reality, we have an entire procedure of karmic balance sheeting done in the Hall of Judgement.  This tradition has been documented in abcient civilizations such as the Egyptian (hall of death and Osiris), the Jewish (book of Zorah and how many Sephiroth have been traversed in the tree of Life) and even our very own Indian as in Yamraaj sitting with his karma judiciary.

In this divine court the souls who have been travelling over many births now have to settle their karmic debts.  They have to choose their new births and their new parents and their new habitats in a way that the pending karmic debts of previous births are settled to a maximum in this lifetime at least so that as the soul proceeds further in its evolution cycle the baggage of preceding debts becomes lesser and lesser.

The intrinsic responsibility of each soul in its Divine path is to keep shedding this preceding baggage as it moves to merge with the Whilte Light.

It does this by settling the SOUL CONTRACTS of debts and credits it has built up over lifetimes with its soul mates. The same souls keep criss crossing each other during different lifetimes.
It is true that certain karmic connections may draw people towards each other. This does not mean, however, that these will be ideal relationships. The success of these relationships will depend on the maturity and sensitivity with which we approach them.
They may succeed but more often they will be fraught with internal bitterness.

Thus if you meet a person in this lifetime you feel attracted to then pay heed to it. Form a bond or relationship with that person. Your soul may either be repaying his debts then you will feel losses or suffering in the bond. Accept it with peace. Accept it with a feeling of surrender and acceptance.  Once your repayment is done then you can go your seperate ways. Finally released of any obligations to each other. Aaah! The liberation of the soul to seek new partners and settle more scores so that the soul may be light again; it may be pure again. It may be again as the Divine wants it to be for your highest happiness

Accept your soul mates with open arms. They may come as friends to  give you their due or they may come as your enemy to take back from you what you owe them.  You can have hundreds of soul mates in one lifetime so stop looking for just romantic ones.

Ofcourse the romantic soul mate is one of the  most fulfilling BONDS we can have in a birth cycle. Its that person who gives us a sense of completion. There is more harmony than conflict and the souls seem to talk in silent secret language all of its own. There is a deep thirst to unite intellectually, emotionally and physically with this person. Compassion and understanding towards the other flows naturally.  This kind of spiritual UNION is not in every one's cosmic life plan and maturity suggests that one not remain fixated on finding just the romantic soul mate but rather the variety of other soulmates that are also searching for you and trying to gravitate towards you in non romantic roles.
Form all sorts of bonds so that maximum give and take can be done. The more you settle, the faster you can progress in your spiritual life as you rise from the chords holding you chained to earthly obligations.

Meditate.  Mingle. Understand who to give to and who to take from. Surrender to this ultimate divine bahi-khata or karmic ledger. Its all part of your human experience as the travelling soul that you inherently are.

Angel blessings
Rrachita Gupta Ravera

Wednesday, June 26, 2019

सिद्ध लाल किताब टोटके : finance property depression

सिद्ध लाल किताब टोटके :

आज संसार में हर आदमी दुखी है . चाहे अमीर हो या गरीब, बडा हो या छोटा . हर इंसान को कोई न कोई परेशानी लगी रहती है . ज्योतिष में इसके लिए कई उपाय सुझाए गए हैं . जिनको विधि पूर्वक करके हम लाभ उठा सकते हैं .

लाल किताब उत्तर भारत में खास कर पंजाब में बहुत प्रसिद्ध है . अब इसका प्रचार धीरे-धीरे पूरे भारत में हो रहा है . इसकी लोकप्रियता का मुख्य कारण इसके आसान, सस्ते और सटीक उपाय हैं . इसमें कई उपाय ग्रहों की बजाय लक्षणों से बताये जाते हैं . आपके लाभ के लिए कुछ सिद्ध उपाय निम्न प्रकार से हैं –

1. यदि आपको धन की परेशानी है, नौकरी मे दिक्कत आ रही है, प्रमोशन नहीं हो रहा है या आप अच्छे करियर की तलाश में है तो यह उपाय कीजिए :
किसी दुकान में जाकर किसी भी शुक्रवार को कोई भी एक स्टील का ताला खरीद लीजिए . लेकिन ताला खरीदते वक्त न तो उस ताले को आप खुद खोलें और न ही दुकानदार को खोलने दें ताले को जांचने के लिए भी न खोलें . उसी तरह से डिब्बी में बन्द का बन्द ताला दुकान से खरीद लें . इस ताले को आप शुक्रवार की रात अपने सोने के कमरे में रख दें . शनिवार सुबह उठकर नहा-धो कर ताले को बिना खोले किसी मन्दिर, गुरुद्वारे या किसी भी धार्मिक स्थान पर रख दें . जब भी कोई उस ताले को खोलेगा आपकी किस्मत का ताला खुल जायगा .

2. यदि आप अपना मकान, दुकान या कोई अन्य प्रापर्टी बेचना चाहते हैं और वो बिक न रही हो तो यह उपाय करें :

बाजार से 86 (छियासी) साबुत बादाम (छिलके सहित) ले आईए . सुबह नहा-धो कर, बिना कुछ खाये, दो बादाम लेकर मन्दिर जाईए . दोनो बादाम मन्दिर में शिव-लिंग या शिव जी के आगे रख दीजिए . हाथ जोड कर भगवान से प्रापर्टी को बेचने की प्रार्थना कीजिए और उन दो बादामों में से एक बादाम वापिस ले आईए . उस बादाम को लाकर घर में कहीं अलग रख दीजिए . ऐसा आपको 43 दिन तक लगातार करना है . रोज़ दो बादाम लेजाकर एक वापिस लाना है . 43 दिन के बाद जो बादाम आपने घर में इकट्ठा किए हैं उन्हें जल-प्रवाह (बहते जल, नदी आदि में) कर दें . आपका मनोरथ अवश्य पूरा होगा . यदि 43 दिन से पहले ही आपका सौदा हो जाय तो भी उपाय को अधूरा नही छोडना चाहिए . पूरा उपाय करके 43 बादाम जल-प्रवाह करने चाहिए . अन्यथा कार्य में रूकावट आ सकती है .

3. यदि आप ब्लड प्रेशर या डिप्रेशन से परेशान हैं तो :
इतवार की रात को सोते समय अपने सिरहाने की तरफ 325 ग्राम दूध रख कर सोंए . सोमवार को सुबह उठ कर सबसे पहले इस दूध को किसी कीकर या पीपल के पेड को अर्पित कर दें . यह उपाय 5 इतवार तक लगातार करें . लाभ होगा .

4. माईग्रेन या आधा सीसी का दर्द का उपाय :
सुबह सूरज उगने के समय एक गुड का डला लेकर किसी चौराहे पर जाकर दक्षिण की ओर मुंह करके खडे हो जांय . गुड को अपने दांतों से दो हिस्सों में काट दीजिए . गुड के दोनो हिस्सों को वहीं चौराहे पर फेंक दें और वापिस आ जांय . यह उपाय किसी भी मंगलवार से शुरू करें तथा 5 मंगलवार लगातार करें . लेकिन….लेकिन ध्यान रहे यह उपाय करते समय आप किसी से भी बात न करें और न ही कोई आपको पुकारे न ही आप से कोई बात करे . अवश्य लाभ होगा .

5. फंसा हुआ धन वापिस लेने के लिए :
यदि आपकी रकम कहीं फंस गई है और पैसे वापिस नहीं मिल रहे तो आप रोज़ सुबह नहाने के पश्चात सूरज को जल अर्पण करें . उस जल में 11 बीज लाल मिर्च के डाल दें तथा सूर्य भगवान से पैसे वापिसी की प्रार्थना करें . इसके साथ ही “ओम आदित्याय नमः ” का जाप करें .

नोट :
1. सभी उपाय दिन में ही करने चाहिए . अर्थात सूरज उगने के बाद व सूरज डूबने से पहले .
2. सच्चाई व शुद्ध भोजन पर विशेष ध्यान देना चाहिए .
3. किसी भी उपाय के बीच मांस, मदिरा, झूठे वचन, परस्त्री गमन की विशेष मनाही है .
4. सभी उपाय पूरे विश्वास व श्रद्धा से करें, लाभ अवश्य होगा .

Saturday, June 15, 2019

रविवार, 16 जून को ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा

*कल रविवार, 16 जून को ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा है।*

रविवार और पूर्णिमा के योग में सुबह जल्दी उठें। स्नान के बाद सूर्यदेव को जल अर्पित करें। इसके लिए तांबे के लोटे में जल भरें, चावल, फूल डालकर सूर्य को अर्घ्य दें।

सूर्यदेव की पूजा में धूप, दीप जलाकर सूर्यदेव की आरती करें।

पूर्णिमा तिथि पर विष्णुजी के स्वरूप सत्यनारायण भगवान की कथा करनी चाहिए। अगर संभव हो सके तो किसी ब्राह्मण से कथा करवानी चाहिए। ब्राह्मण की मदद से पूजा विधि-विधान से हो जाती है।

महिलाओं के लिए इस तिथि का काफी अधिक महत्व है।
इस पूर्णिमा पर वट सावित्री व्रत किया जाता है। महिलाएं अपने पति के सौभाग्य और लंबी उम्र के लिए ये व्रत करती हैं।

वट सावित्री पूर्णिमा पर विवाहित महिलाएं वट वृक्ष की पूजा करती हैं और 108 परिक्रमा लगाती हैं। पेड़ पर कच्चा सूत लपेटा जाता है और पति की लंबी उम्र का वरदान मांगा जाता है।

स्कंद पुराण और भविष्य पुराण के अनुसार वट सावित्रि व्रत ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा को रखा जाता है। इस दिन महिलाओं को नए कपड़े पहनना चाहिए,सोलह श्रृंगार करना चाहिए।

बरगद की पूजा करके वट वृक्ष को फल चढ़ाएं,फूल और माला अर्पित करें, धूप-दीप जलाएं।

इस तिथि पर विवाहित महिलाओं को सत्यवान और सावित्री की कथा सुननी चाहिए।
ये प्राचीन परंपरा है, इस संबंध में मान्यता है कि ये कथा सुनने से महिलाओं को सौभाग्य मिलता है।

पूर्णिमा पर माता सावित्री की पूजा करें। किसी ब्राह्मण या जरूरतमंद व्यक्ति को अपने सामर्थ्य के अनुसार दान दें,
भोजन कराएं।

सूर्यास्त के बाद किसी हनुमान मंदिर जाएं और भगवान के सामने दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।

शाम के समय घर में तुलसी के पास दीपक जलाएं और परिक्रमा करें। ध्यान रखें सूर्यास्त के बाद तुलसी को स्पर्श न करें और जल भी नहीं चढ़ाएं।

रात में घर के मंदिर में दीपक जलाएं, इस दीपक से सकारात्मकता बढ़ती है और नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव खत्म होता है।

सूर्य से संबंधित चीजें जैसे तांबे का बर्तन, पीले या लाल वस्त्र, गेहूं, गुड़, माणिक्य, लाल चंदन आदि का दान करें।
अपनी श्रद्धानुसार इन चीजों में से किसी भी चीज का दान किया जा सकता है।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Monday, April 29, 2019

नवग्रहो को अपने अनुकुल बनाने के कुछ उपाय-*

*नवग्रहो को अपने अनुकुल बनाने के कुछ उपाय-*

सूर्य को अनुकुल बनाने के उपाय- अपने पिता एवँ पिता तुल्य जनोँ का मान-सम्मान करे। अहोरात्र(24घण्टे) मे से अपना कुछ समय उनको जरुर दे। उन्के पास बैठे, उनकी बातो से अपनी समस्याओँ का समाधान निकाले। ताम्बे के पात्र से पानी पिये। अपने समुदाय के प्रति सजग बने। अगर हो सके तो रविवार को एक पाठ “आदित्यह्रदय स्तोत्र” का जरुर करे। 100% सूर्य का अच्छा प्रभाव मिलेगा।
चंद्र को अनुकुल बनाने के उपाय- अपनी माता एवँ माता तुल्य स्त्रियोँ को खुश रखे। उनका आदरभाव करे। कुछ समय उनके पास बैठे। जो समस्या उनको बताने लायक हो उसके बारे मे उन से चर्चा करेँ अन्यथा उनकी बातो से अपनी समस्या का समाधान खुद निकाले। सुबह चाय या काफी लेने से पहले आधा कप या एक चम्मच गाय कच्चा दुध जरुर पीये। हो सके तो चांदी धातु शरीर पर जरुर धारण करे। शुक्ल पक्ष की अष्टमी से लेके कृष्ण पक्ष कि सप्तमी तक रात्रि मे चंद्रमा को अर्घ जरुर दे। मानसिक शांति के लिए Meditation जरुर करे।
मंगल को अनुकुल बनाने के उपाय- अपने भाईयोँ से मिलकर रहेँ। दिन मे नही तो रात्रि मे अपने भाईयोँ के साथ भोजन करे। किसी संकट मे आये व्यक्ति कि मदद करेँ। शारीरिक क्षमता के अनुसार रक्त का दान करेँ। किसी समझदार व्यक्ति की राय से काम करे। अन्य व्यक्ति की प्रतिष्ठा ध्यान रखे। नित्य दुध जरुर पीयेँ। घर के अग्नि स्थान(रसोई) को साफ रखे। हनुमान जी उपासना करे।
बुध को अनुकुल बनाने के उपाय – अपने मित्र ओर पडोसी से अच्छे सम्बंध रखे। अपनी क्षमता के अनुसार उनकी मदद करेँ। असहाय ओर निर्धन, गरीब व्यक्तियो कि मदद करे। नपुँसक जनो को कैसे भी(मन,कर्म,वचन) ठैस ना पहुंचाये। 1 वर्ष मे एक पेड जरुर लगाये। पशुओ को हरित घास जरुर खिलायेँ। गणेश जी की उपसान करे। हो सके तो बुधवार को गणेश अथर्वशीष का पाठ जरुर करे।
गुरु को अनुकुल बनाने के उपाय – अपने गुरु तथा अपने से बडे जनो के प्रति आदर भाव रखे। आस्तिक बने। मंदिर जरुर जाये। अपने ओर अन्य धर्मो के प्रति सद्भाभावना रखे। अपने परिवार के साथ तीर्थ स्थलो मे जायेँ। गरीब बच्चो को पठन-पाठन के लिए मदद करेँ। नित्य अपने गुरु मंत्र का जाप जरुर करेँ।
शुक्र को अनुकुल बनाने के उपाय – अपने परिवार कि तथा अन्य समुदाय कि स्त्रियोँ कि मदद करेँ। कुँवारी कन्या कि मदद करे। स्त्रियोँ के प्रति अच्छे विचार रखे। अपनी धर्म पत्नी के अलावा अन्य स्त्रियोँ को माता, बहन एवँ बेटी का दर्जा दे। नित्य संगीत जरुर सुने। अंधे व्यक्ति कि मदद करेँ। दोपहर के भोजन दही जरुर ग्रहण करे। अपने कुल-देवी की उपासना करे।
शनि को अनुकुल बनाने कि उपाय – अपने से निम्न(छोटे) वर्ग के जनो कि मदद करेँ। नोकर या अपने आस-पास के निन्म वर्गो के जनो कि मदद करे। घर के बुजुर्ग जनो को खुश रखे। दिन का कुछ समय उनके साथ जरुर बितायेँ। दिव्यांग जनो की मदद करे। हो सके तो शनिवार को पीपल के निचे तेल का दिपक जरुर करे।
राहु एवँ केतु को अनुकुल बनाने के उपाय – अपने आस-पास साफ-सफाई रखे। गलत संगत से बचे। किसी भी प्रकार का नशा ना करेँ। सभी धर्मो के जनोँ कि मदद करेँ। नशा करने वाले व्यक्तियो को नशा ना करने की सलाह देँ। पशु-पक्षियोँ पर दया भाव रखे। रात को जल्दी सोने का प्रयत्न करे। शिव जी की उपासना करे। अपने कुलदेवी देवाताओ कि उपासना करे। अपने हर कार्य के लिए नियमित बनेँ। अपनी वस्तुओँ को उनकी जगह पर हि रखेँ।

          

Saturday, January 12, 2019

ज्योतिष में बुध और जातक mercury and other planets conjoin astrology

ज्योतिष में बुध और जातक ================= बुध दिमाग है, चालाकी है, चतुराई है, पैसा है, सामाजिक तालमेल है, गणितबाज़ी है, वाणी है, घुटन देने वाला ज़हर है, शरीर को सुखा देने वाला है, कमज़ोर कर देने वाला है और वित्त मंत्री है | कुण्डली में जब बुध शत्रु ग्रह या उनकी राशी ( सुर्य, चन्द्रमा, ब्रहसपति, मंगल ) में होता है तो जातक को दिक्कत देता है, बेवझा धन हानि या फ़िर ओवर कान्फ़िडेन्स के कारण जातक को नुकसान होता है |

जब बुध सुर्य के साथ होता है तो जातक को जलदी सफ़लता देता है, खास कर 21-22 से ही जातक किसी ना किसी रूप में धन कमाना शुरु कर देता है,लेकिन उसके बाद जब जातक को लगे कि सब कुछ सैट है, जहाँ पर जातक रिसक लेता है लालच करता है, 30-32 तक पहुँच कर जातक को नीचे गिराना शुरु कर देता है |

जब कुण्डली में बुध चन्द्रमा के साथ होता है, तो भी धन तो देता है लेकिन रिश्ते के मामले में धोखा देता है, कम उम्र में ही जातक के चरित्र का पतन होना शुरू हो जाता है, जातक प्रेम सम्बन्ध की तरफ़ और खुद की खुबसुरती की तरफ़ ज़्यादा ध्यान देने लग जाता है और पढाई से जातक का मन भटक जाता है, हर समय जातक के मन में कोई ना कोई फ़ितूर चलता रहता है, जातक कभी शान्त नहीं रह पाता |

कुण्डली में जब मंगल बुध के साथ होता है तो यही बुध जातक के जोश, जुनुन और जुररत को बांध देता है, जातक के दोस्त ही उसके सामने उसका उपहास करते हैं और जातक को इस मानहानी के घूट पीने पडते हैं, वह अन्दर ही अन्दर घुटता रहता है | और यही बुध मंगल के कारण ही जातक का शरीर कमज़ोर होता है, पतला होता है, जातक में खून की कमी या फ़िर हृदय से सम्बन्ध रोग होते हैं, हर छोटी छोटी बात पर जातक घबराता है, एग्ज़ेम है उस से पहले जातक का मन घबराता है, कोई इन्ट्रवियु है उस से पहले जातक को घबराहट शुरु हो जाती है, कलास में प्रिंसिपल ने आना है ये सुन कर ही जातक घबरा जाता है |

और जब कुण्डली में बुध ब्रहसपति के साथ होता है, तो जातक अपने ही बडो का सम्मान नहीं करता, जातक एक अच्छा शिष्य नही बन सकता क्युकि वो चीज़ो को बारीकी से समझने की कोशिश नहीं करता | जातक को अपने ही माता पिता की सलाह पर चलना पसंद नहीं होता, हालकि माता पिता से सम्बन्ध अच्छे रहते हैं लेकिन कुछ ना कुछ वैचारिक मत भेद चलते रहते हैं | जातक का अपने ही पिता के साथ दोस्ताना सम्बन्ध नहीं होता, जातक अपने पिता के साथ फ़ुरसत के पल नहीं बिता सकता, जातक अपने ही पिता के साथ खरीदारी करने नही जा सकता, और अगर कर भी आये तो घर आकर बहस और नोक झोक शुरु हो जाती है | ऐसा बुध कभी भी जातक को बडो के सानिधय में रहने नहीं देता, जातक को उस के टीचर्स से बात चीत करने नहीं देगा, टीचर्स से सवाल करने नहीं देगा, चीज़ो को समझने नहीं देगा, सिर्फ़ किताबी रट्टा मारने की आदत बना देता है | जातक खुद को दूसरो से ज़्यादा बुद्धीमान और चतुर समझने लगता है | और जातक धर्म से विमुख होता चला जाता है, संस्कार और रिवाजो से दूर होता चला जाता है | और एक समय ऐसा आ जाता है कि जातक के पास धन तो होता है लेकिन रिश्ते नहीं होते, रिश्तो का सुख नहीं होता | जातक के खुद बच्चे उस का बुढापे में साथ नहीं देते उसका हाल नहीं पुछते |

Wednesday, December 26, 2018

अंगारक योग ANGARAK YOG RAHU + MARS IN DIFFERENT HOUSES

🏵️ ।। अंगारक योग   ।।🏵️  

यदि जन्मकुंडली में मंगल और राहु एक साथ हो अर्थात कुंडली में मंगल राहु का योग हो तो उसे "अंगारक" योग कहते हैं । अगर ये योग बन रहा हो तो सर्वप्रथम तो कुंडली के जिस भी भाव में यह योग बने उस भाव और जिन भावों पर राहु व मंगल की द्रष्टी हो उन भावों को पीड़ित कर देता है और उन भावों से नियंत्रित होने वाले पहलुओं में संघर्ष बने रहते हैं।

कुंडली के 12 भाव में अंगारक योग से होने वाला प्रभाव :-

1-प्रथम भाव में अंगारक योग होने से पेट व लीवर रोग, माथे पर चोट, अस्थिर मानसिकता, क्रूरता और निजी भावनाओं की असंतुष्टि देता है।

2-द्वितीय भाव में अंगारक योग होने से धन में उतार-चढ़ाव, तंगहाली, वाणी-दोष, कुटंभियों से विवाद व सक्की मिजाज बनाता है।

3-तृतीय भाव में अंगारक योग होने से भाई-बहनों-मित्रों से कटु संबंध, वटवारा, अति उत्साही, एवं नास्तिक छल-कपट से सफल होते है।

4-चतुर्थ भाव में अंगारक योग होने से माता को दुख, अशान्ती, क्लेश, मकान में बाधाऐं व भूमि संबंधित विवाद होते हैं।

5-पंचम भाव में अंगारक योग होने से संतानहीनता, संतान से असंतुष्ट, नाजायज प्रेम संबंधों से परेशानी व जुए-सट्टे से लाभ भी हो सकता है।

6-छटम भाव में अंगारक योग होने से कर्जदार, ऋण लेकर उन्नति करने वाला, शत्रुहंता, व्यक्ति खूनी, उग्र परंतु "डा. सर्जन" भी बन सकता है।

7-सप्तम भाव में अंगारक योग होने से दुखी-विवादित वैवाहिक जीवन, नाजायज संबंध, हिंसक जीवन साथी, कामातुर, विधवा या विधुर होना परंतु सांझेदारी में धोका भी मिल सकता है।

8-अष्टम भाव में अंगारक योग होने से  आरोप-अपमान, धन-हानि, घुटनों से नीचे दर्द रहना, चोटें लगना, सड़क दुर्घटनाऐं के प्रबल योग बनते हैं। परंतु पैत्रिक संपती मिलने और लुटाने के प्रवल योग भी बनते हैं।

9-नवम भाव में अंगारक योग होने से उच्च शिक्षा में बाधाऐ, भाग्यहीन, वहमी, रूढ़ीवादी व तंत्रमंत्र में लिप्त, पित्र-श्रापित, संतान से पीडित होते हैं। तथा बहुत ही परेशानियों का सामना करते हैं।

10-दशम भाव में अंगारक योग होने से परंपराओं को तोडने वाले, पित्र संमत्ती से बंचित, माता-पिता की भावनाओं को आहत करने वाले परंतु ऐसे व्यक्ति अति कर्मठ, अधिकारी, मेहनतकश, स्पोर्टमेन व आत्यधिक सफल हो सकते है।

11-एकादश भाव में अंगारक योग होने से, गर्भपात, संतान में विकलांगता, अनैतिक आय, व्यक्ति चोर, धोखेबाज़ होते हैं। पंरंतु प्रापर्टी से लाभ हो सकता है।

12-द्वादश भाव में अंगारक योग होने से अपराधी प्रवृत्ति, वलात्कारी, जबरन हक जमाने वाले और अहंकारी हो सकते हैं। परंतु आयात-निर्यात, विदेशी व्यापार एवं  रिश्वतख़ोरी से लाभ प्राप्त होता है ।