Friday, January 30, 2015

मोटापा घटाने केलिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्खेँ

मोटापा घटाने केलिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्खेँ

मोटापे को लेकरकई लोग परेशानरहतें हैं और इससेछुटकारा पाना चाहतेंहैं ! कुछ उपाय ढूंढकर उनको प्रयोग में लातें हैं लेकिन कई बार ऐसा देखा गया हैकि हर उपाय हरआदमी के लिएफायदेमंदनहीं हो पाता हैजिसके कारणउनको निराश होनेकि आवश्यकतानहीं है औरउनको दुसरा उपायअपनाना चाहिए !आज में आपके सामनें मोटापे को दूर भगाने के लिए कुछ सामान्यआयुर्वेदिक नुस्खेँ लेकर आया हूँ! जिनका प्रयोग करके फायदा उठाया जा सकता है !

1. मूली के रस मेंथोडा नमक और निम्बूका रस मिलाकरनियमित रूप से पीने से मोटापा कमहो जाता है और शरीरसुडौल हो जाता है !

2. गेहूं, चावल, बाजराऔर साबुत मूंगको समान मात्रा मेंलेकर सेककरइसका दलियाबना लें !इस दलिये में अजवायन 20 ग्राम तथा सफ़ेदतिल 50 ग्रामभी मिला दें ! 50 ग्रामदलिये को 400मि.ली.पानी मेंपकाएं !स्वादानुसार सब्जियां और हल्का नमक मिला लें !नियमित रूप से एकमहीनें तक इस दलिये के सेवन से मोटापा और मधुमेह में आश्चर्यजनकलाभ होता है !

3. अश्वगंधा के एकपत्ते को हाथ सेमसलकर गोली बनाकर प्रतिदिनसुबह,दोपहर,शामको भोजन से एकघंटा पहलेया खाली पेट जल केसाथ निगल लें ! एकसप्ताह के नियमितसेवन के साथफल, सब्जियों, दूध, छाछ और जूस पर रहते हुए कईकिलो वजन कमकिया जा सकता है !

4. आहार में गेहूं केआटे और मैदा से बनेसभी व्यंजनों का सेवन एक माह तक बिलकुल बंद रखें ! इसमें रोटी भीशामिल है !अपना पेट पहले के4-6 दिन तक केवलदाल, सब्जियां औरमौसमी फल खाकरही भरें ! दालों में आपसिर्फ छिलकेवाली मूंग कि दाल, अरहर या मसूर कि दाल ही ले सकतें हैं चनें या उडदकि दाल नहीं !सब्जियों में जो इच्छा करें वही ले सकते हैं !गाजर, मूली, ककड़ी,पालक, पतागोभी, पके टमाटर औरहरी मिर्च लेकरसलाद बना लें ! सलाद पर मनचाही मात्रा में कालीमिर्च, सैंधा नमक, जीरा बुरककर औरनिम्बू निचोड़ करखाएं ! बस गेहूंकि बनी रोटी छोडकरदाल, सब्जी, सलाद और एक गिलास छाछका भोजन करते हुए घूंट घूंट करके पीते हुए पेट भरना चाहिए ! इसमें मात्रा ज्यादा भी हो जाए तो चिंता कि कोई बात नहीं ! इस प्रकार 6-7 दिन तक खाते रहें !इसके बाद गेहूंकि बनी रोटी किजगह चना और जौ के बने आटे कि रोटी खाना शुरू करें !

5 किलो देशी चना और एक किलो जौ को मिलकर साफ़ करके पिसवा लें !6-7 दिन तक इस आटे से बनी रोटी आधी मात्रा में औरआधी मात्रा मेंदाल,सब्जी,सलाद और छाछ लेना शुरू करें ! एकमहीने बाद गेहूंकि रोटी खाना शुरूकर सकते हैं लेकिनशुरुआत एक रोटी सेकरते हुए धीरे धीरेबढाते जाएँ ! भादों केमहीने में छाछका प्रयोगनहीं किया जाता हैइसलिए इस महीनें मेंछाछ का प्रयोगनां करें !!

5. एरण्ड की जड़का काढ़ा बनाकरउसको छानकर एक एक चम्मच की मात्रा में शहद के साथ दिन में तीन बार नियमितसेवन करने सेमोटापा दूरहोता है !!

6. चित्रक कि जड़का चूर्ण एक ग्रामकी मात्रा में शहद केसाथ सुबह शामनियमित रूप से सेवन करने और खानपान का परहेज करनें से भी मोटापा दूर किया जा सकता है !!

Wednesday, January 28, 2015

The magic of WATER and success!!

You're in the shower, and you receive a brilliant idea! Why is that?

1. Water promotes meditation, because it's symbolic of the emotions and unconscious mind. So water's meditative qualities open us up to hearing and listening to guidance.

2. Water relaxes us with its negative ions, particularly from running water like showers, waterfalls, and waves. Negative ions bring about feelings of bliss.

3. Water has healing properties. There's a reason why healing wells like Lourdes, France, have documented miracle healings. Water has long been used in healing ceremonies and health treatments.

4. Water is magnetically attractive, and will hold the energetic properties of prayers and positive intentions.

5. Water is restorative and cleansing. Not only does water wash away physical dirt, but it also cleanses you of any negativity that you've absorbed.

 If you're feeling stuck and in need of guidance, go take a shower or soak in a bathtub with the faucet running. Moving water has more negative ions and electric charge than stagnant water.  If you have access to a beach, waterfall, or moving river, these are also powerful places to receive inspiration and answers.

Then, hold your question in mind, and send the question heavenward. Releasing the question is important, because that frees your mind to be able to hear the answer you're seeking.

Answers come to you as thoughts, feelings, visions, or words.  So notice any impressions that come into your mind or body. If you don't understand what they mean, ask the question, "What does this mean? Please explain further," and then notice insights you receive as clarification.

Some of the insights you receive may not make sense at the time, but they will later. So, write notes of the ideas which come to you, because they contain answers to your questions. You may also receive guidance which intimidates you, because you don't feel qualified or ready to pursue a new project or a different direction. Again, notice the guidance and trust that you'll soon understand.

Please share your experiences of receiving ideas near water. What works better for you: the shower, bathtub, river, ocean, or ??

Louise hay

Sunday, January 25, 2015

Retrograde Mercury - affects communication and travel and technology

ww.AstroRrachita.in

Mercury is retrograde from: January 21 – February 11,
What does Mercury Retrograde mean?

Mercury is retrograde when it’s traveling backwards. That’s an optical illusion, of course, and comes from a change in that planet’s orbital speed in comparison to the Earth’s. (Think of it as the planetary equivalent of speeding up, passing a car and seeing it fall far behind after you in the rear view mirror.)

When Mercury is moving in reverse, the areas of life it governs do not play by the usual rules. Pay extra attention to anything related to communication and travel-including phones, computers and electronic devices, the mail (remember that?), cars, public transportation, and commutes.

EFFECTS :

1.Messages go astray;

2. misunderstandings and confusion abound;

3. technology malfunctions; traffic snarls; travel gets delayed.

CAUTION : Postpone launching major projects, signing major contracts and buying big-ticket items. Double-check fine print, backup your data, and allow lots of extra time when you’re on the road.

The good news? This is an excellent time to :

1.investigate and research,
2. finish old business,
3.clean up paperwork,
4. get in touch with people you haven’t talked to in a while. 5.Pay attention to who surfaces from the past, in person or in thoughts. Their reappearance could help tie up loose ends or resolve lingering business.
Organize and prepare so you’ll be ready to move ahead when Mercury does!

EATING WITH HANDS A "SCIENTIFIC" PRACTICE"

WWW.ASTRORRACHITA.IN

EATING WITH HANDS A "SCIENTIFIC" PRACTICE.

As per the Indian wellness system of AYURVEDA its an excellent practice to mix food while cooking with your hands, example marinating and making batter etc and also to eat eith one's hands just like its done in large parts of India.
Benefits: OUR HAMD IS A BLENDING OF THE 5 TATTVAS(ELEMENTS) OR PRIMAL ESSENCES OF THE UNIVERSE.
THUMB: FIRE ELEMENT
INDEX FINGER: AIR ELEMENT
MIDDLE FINGER: ETHER OR AKASHA ELEMENT
RING FINGER: EARTH ELEMENT
LITTLE FINGER: JALA OR WATER ELEMENT

WHILE USING HAND TO EAT THE FOOD,  it  IS IMBUED WITH THE UNIQUE QUALITIES OF EACH ELEMENT IN NATURAL PROPORTION AND THEN DIGESTED IN OPTIMAL WAY SINCE THE HUMAN BODY IS ALSO MADE UP OF THE 5 ELEMENTS.
EATING WITH HANDS ALSO SENDS FOOD RELATED SIGNALS TO BRAIN SO THAT THE BRAIN READIES OUR DIGESTIVE SYSTEM FOR THE WORK AHEAD AND THE ENTIRE INTAKE, DIGESTION AND EXCRETION SYSTEM IS STREAMLINED LEADING TO A VIBRANT AND HEALTHY BODY.
OM NAMO SHIVAY

Monday, January 19, 2015

Dreams carry Divine message for your Success

OUR DREAMS CARRY MESSAGES AND SOLUTIONS FOR OUR LIFE. LEARN TO APPRECIATE DREAMS AND ITS MESSAGE FOR YOU.

Angel readings and guidance: www.AstroRrachita.in


When we’re sleeping, we’re wide-open to receiving Divine messages which we may have ignored while awake. Our angels, and even our departed loved ones, often visit us during our dreamtime. You may also awaken with the sense that you traveled somewhere during your sleep. . 


Here are some ways to receive visitations and Divine messages in your dreams:


1. Go to bed sober, so that your mind is operating at its highest frequency. Drugs and alcohol inhibit Rapid Eye Movement (REM) sleep, so you don’t dream as much or as deeply. And you’ll remember your dreams more easily with a clear, chemical-free mind.


2. As you are falling asleep, pose a question to your guardian angels. Perhaps it’s about a decision you’re trying to make, help with a relationship, or answers to a question. Trust that they’ll answer your question while you’re sleeping.

3. Keep a journal or hand-held tape recorder near your bedside. Immediately record anything that you remember from your dreams. Dream record-keeping has a cumulative effect in increasing the number of profound and memorable dreams.
4. If you don’t understand any dream’s meaning, ask your angels to guide you toward its meaning. Then be open to synchronicities throughout the day, including books that are recommended to you, conversations you overhear, and other messages which will continue your Divine dreams into your waking life.
D. virtue excerpt

Monday, January 12, 2015

शिवलिंग पर क्यों चढ़ाते हैं भस्म

शिवपुराण के अनुसार जानिए शिवलिंग पर क्यों चढ़ाते हैं भस्म

शिवजी के पूजन में भस्म अर्पित करने का विशेष महत्व है। बारह ज्योर्तिलिंग में से एक उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर में प्रतिदिन भस्म आरती विशेष रूप से की जाती है। यह प्राचीन परंपरा है। यहां जानिए शिवपुराण के अनुसार शिवलिंग पर भस्म क्यों अर्पित की जाती है...

शिवजी का रूप है निराला

भगवान शिव अद्भुत व अविनाशी हैं। भगवान शिव जितने सरल हैं, उतने ही रहस्यमयी भी हैं। भोलेनाथ का रहन-सहन, आवास, गण आदि सभी देवताओं से एकदम अलग हैं। शास्त्रों में एक ओर जहां सभी देवी-देवताओं को सुंदर वस्त्र और आभूषणों से सुसज्जित बताया गया है, वहीं दूसरी ओर भगवान शिव का रूप निराला ही बताया गया है। शिवजी सदैव मृगचर्म (हिरण की खाल) धारण किए रहते हैं और शरीर पर भस्म (राख) लगाए रहते हैं।

भस्म का रहस्य

शिवजी का प्रमुख वस्त्र भस्म यानी राख है, क्योंकि उनका पूरा शरीर भस्म से ढंका रहता है। शिवपुराण के अनुसार भस्म सृष्टि का सार है, एक दिन संपूर्ण सृष्टि इसी राख के रूप में परिवर्तित हो जानी है। ऐसा माना जाता है कि चारों युग (त्रेता युग, सत युग, द्वापर युग और कलियुग) के बाद इस सृष्टि का विनाश हो जाता है और पुन: सृष्टि की रचना ब्रह्माजी द्वारा की जाती है। यह क्रिया अनवरत चलती रहती है। इस सृष्टि के सार भस्म यानी राख को शिवजी सदैव धारण किए रहते हैं। इसका यही अर्थ है कि एक दिन यह संपूर्ण सृष्टि शिवजी में विलीन हो जानी है।

Sunday, January 04, 2015

Astrorrachita(Rachita) - WWW.ASTRORRACHITA.IN: ASTROLOGICAL TIMING OF SURGERY affects its Succes...

Astrorrachita(Rachita) - WWW.ASTRORRACHITA.IN: ASTROLOGICAL TIMING OF SURGERY affects its Succes...: TIMING OF SURGERY- GENERAL RULES TO PONDER MERCURY RETROGRADE Do not schedule a surgery (except a life-death one) under a Mercury ...

ASTROLOGICAL TIMING OF SURGERY affects its Success- GENERAL RULES TO PONDER

TIMING OF SURGERY- GENERAL RULES TO PONDER

MERCURY RETROGRADE

Do not schedule a surgery (except a life-death one) under a Mercury retrograde, 7 days before and after, the ‘shadow’ period, is just as problematical and behaves like a true retrograde, should be avoided. It becomes combusted also very near to sun.

TRANSITING MARS: Retrograde

15 days before and after the actual retrograde behaves like the real one. Mars rules our red blood cells, our muscles, and our vitality and our energy reserves. When retrograde, and if surgery must occur, it will not be successful. If you do surgery during a Mars retrograde, recovery/recuperation time will be LONGER than normal and bleeding is more so you need blood transfusion.

NEW MOON OR FULL MOON?

At a FULL MOON, the blood tidal flow is at its peak, and a person who must have surgery during this time will experience far broader bruising, swelling (this means taking more pain meds), and serious possible hemorrhaging at the surgery site. 

So to suggest- to schedule 5 days before or after a NEW MOON for best results. Never schedule a surgery, if possible, five days before or after an eclipse. 

AVOIDING SURGERY WHEN THE TRANSIT OF THE MOON IS IN THAT ZODIAC SIGN RULING THAT ORGAN OR SYSTEM OF YOUR BODY-

For example, if you must go in for heart by-pass surgery, we do not want to schedule this surgery for the transit of the Moon that day in Leo...because Leo rules the heart and cardiovascular system.If possible, to avoid using the transiting Moon in a sign opposite of that body part that is going to be operated on, THAT IS 7TH ASPECT.

FIXED, CARDINAL AND MUTABLE SIGNS-

Mutable signs are ultimately flexible and the most creative of the Quadruplicity, and one wants the surgeon to be just in that frame of mind when she/he is poking for the root cause of all your problems.

Transiting of the Moon in a fixed sign of Taurus, Leo, Scorpio or Aquarius, this ensures - First, that the surgeon is going to go in and do the surgery on the organ agreed upon. Secondly, the surgeon’s hands are at their steadiest in a fixed sign. You also want to try for a fixed transiting Moon when the surgery is known.

If you can’t use a Moon in a fixed sign for whatever reasons, then opt for a cardinal sign, next. The hands aren’t quite as steady, but guaranteed, your surgeon will be FAST. You will come out of surgery sooner than expected under a cardinal Moon. 

Are you 40+ ? Change your life!

बाज लगभग ७० वर्ष जीता है,
परन्तु अपने
जीवन के ४०वें वर्ष में आते आते उसे एक महत्वपूर्ण निर्णय लेना पड़ता है।

उस अवस्था में उसके शरीर के तीन प्रमुख अंग निष्प्रभावी होने लगते हैं-

पंजे लम्बे और लचीले हो जाते है व
शिकार पर पकड़ बनाने में अक्षम होने लगते हैं।

चोंच आगे की ओर मुड़ जाती है और भोजन निकालने में व्यवधान उत्पन्न करने लगती है।

पंख भारी हो जाते हैं,
और सीने से चिपकने के कारण पूरे खुल नहीं पाते हैं, उड़ानें सीमित कर देते
हैं।

भोजन ढूँढ़ना, भोजन पकड़ना और भोजन खाना, तीनों प्रक्रियायें अपनी धार खोने लगती हैं।

उसके पास तीन ही विकल्प बचते हैं, या तो देह त्याग दे,
या अपनी प्रवृत्ति छोड़ गिद्ध की तरह
त्यक्त भोजन पर निर्वाह करे...

या फिर स्वयं को पुनर्स्थापित करे,
आकाश के निर्द्वन्द्व एकाधिपति के रूप में।

जहाँ पहले दो विकल्प सरल और त्वरित हैं,
वहीं तीसरा अत्यन्त
पीड़ादायी और लम्बा।

बाज पीड़ा चुनता है और स्वयं को पुनर्स्थापित करता है।

वह किसी ऊँचे पहाड़ पर जाता है,
एकान्त में अपना घोंसला बनाता है, और तब प्रारम्भ करता है पूरी प्रक्रिया।

सबसे पहले वह अपनी चोंच चट्टान पर मार मार कर तोड़ देता है..
अपनी चोंच तोड़ने से अधिक पीड़ादायक कुछ भी नहीं पक्षीराज के
लिये। तब वह प्रतीक्षा करता है चोंच के पुनः उग आने की।

उसके बाद वह अपने पंजे भी उसी प्रकार तोड़ देता है और प्रतीक्षा करता है पंजों के पुनः उग आने
की।
नये चोंच और पंजे आने के बाद वह अपने भारी पंखों को एक एक कर नोंच कर निकालता है और प्रतीक्षा करता पंखों के पुनः उग आने की।

१५० दिन की पीड़ा और प्रतीक्षा...
और तब उसे
मिलती है वही भव्य और
ऊँची उड़ान, पहले
जैसी नयी।

इस पुनर्स्थापना के बाद वह ३० साल और जीता है,
ऊर्जा, सम्मान और गरिमा के साथ।

प्रकृति हमें सिखाने बैठी है-
पंजे पकड़ के प्रतीक हैं, चोंच सक्रियता की, और पंख कल्पना को स्थापित करते हैं।
इच्छा परिस्थितियों पर
नियन्त्रण बनाये रखने की,
सक्रियता स्वयं के अस्तित्व की गरिमा बनाये रखने की,
कल्पना जीवन में कुछ नयापन बनाये रखने
की।

इच्छा, सक्रियता और कल्पना,
तीनों के तीनों निर्बल पड़ने लगते हैं,
हममें भी, चालीस तक आते आते।

हमारा व्यक्तित्व ही ढीला पड़ने
लगता है, अर्धजीवन में
ही जीवन समाप्तप्राय सा लगने लगता है,
उत्साह, आकांक्षा, ऊर्जा अधोगामी हो जाते हैं।

हमारे पास भी कई विकल्प होते हैं-
कुछ सरल और त्वरित,
कुछ पीड़ादायी।

हमें भी अपने जीवन के विवशता भरे
अतिलचीलेपन को त्याग कर नियन्त्रण दिखाना होगा-बाज के पंजों की तरह।

हमें भी आलस्य उत्पन्न करने वाली वक्र
मानसिकता को त्याग कर ऊर्जस्वित
सक्रियता दिखानी होगी-बाज की चोंच की तरह।

हमें भी भूतकाल में जकड़े अस्तित्व के
भारीपन को त्याग कर
कल्पना की उन्मुक्त उड़ाने
भरनी होंगी-बाज के
पंखों की तरह।

१५० दिन न सही, तो एक माह
ही बिताया जाये, स्वयं को पुनर्स्थापित करने में। जो शरीर और मन से चिपका हुआ है, उसे तोड़ने और नोंचने में पीड़ा तो होगी ही,
बाज तब उड़ानें भरने को तैयार होंगे, इस बार उड़ानें और ऊँची होंगी, अनुभवी होंगी, अनन्तगामी होंगी।

तो 2015 स्वयं के पुनर्स्थापन के लिए ....